सामान्य जानकारी | मुख्य पृष्ठ
<< पिछला पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

रक्षा लेखा प्रधान नियंत्रक (पेशन) कार्यालय का इतिहास

रक्षा लेखा प्रधान नियंत्रक (पेंशन) कार्यालय रक्षा मंत्रलय के अन्तर्गत रक्षा लेखा विभाग का एक कार्यालय है जिसका मुख्यालय रक्षा लेखा महानियंत्रक नई दिल्ली है।

रक्षा लेखा प्रधान नियंत्रक पेंशन कार्यालय का अतीत अति उज्जवल रहा है। 1.04.1927 से पूर्व पेंशनकी स्वीकृति एवं उसके लेखा परीक्षा की जिम्मेदारी विभिन्ऩ सैन्य लेखा नियंत्रकों के पेंशन अनुभागों की थी 01.04.1927 से उत्तरी एवं पश्चिमी कमान के पेंशन का कार्य सैन्य पेंशन लेखा नियंत्रक उत्तरी एवं पश्चिमी कमान लाहौर को केन्द्रित कर दिया गया था। लाहौर की तरह ही दक्षिणी एवं पश्चिमी कमान के पेंशन कार्य के लिए बाद मे महू में भी एक छोटा कार्यालय बनाया गया पेंशनस्वीकृति एवं लेखा परीक्षा की प्रक़्रिया मे एक रूपता बनाये रखने की दृष्टि से लाहौर एवं महू में स्थित केन्द्रीय पेंशन कार्यालय को बाद में मिलाकर केवल लाहौर में स्थापित कर दिया गया।
नौ सेना लेखा नियंत्रक मुम्बई, वायु सेना लेखा नियंत्रक अम्बाला तथा सैन्य आयुद्ध लेखा नियंत्रक कोलकत्ता अपने संगठन एवं अपने लेखा परीक्षा नियंत्रक में नियुक्त कार्मिको के शीघ्र पेंशन के स्वीकृत प्रधिकारी थे।
सिविल सेवा विनियम के तहत नियंत्रित रायल इडिंयन नेवी के कार्मिको के पेशन स्वीकृति एवं लेखा परीक्षा का कार्य 1.11.1938 से सैन्य लेखा नियंत्रक पेंशन लाहौर को स्थानान्तरित कर दिया गया था। इसी प्रकार बाद में वायु सेना लेखा नियंत्रक देहरादून कार्यालय में कार्यरत सैन्य लेखा विभाग के कार्मिकों के पेंशन का कार्य भी स्थानान्तरित कर दिया गया।
देश के विभाजन के कारण 15.08.1947 से सैन्य लेखा नियंत्रक (पेंशन) लाहौर के कार्यालय का विभाजन हुआ और भारतीय राष्ट्रीय कार्मिकों के पेंशन का कार्य सितम्बर 1947 से सैन्य लेखा नियंत्रक (पेंशन) कार्यालय इलाहाबाद को स्थानान्तरित कर दिया गया। कार्यालय पूर्ण रूपेण दिनांक 21.10.1947 से रक्षा लेखा नियंत्रक नई दिल्ली के प्रशासनिक अधिकार क्षेत्र के अधीन काम करने लगा। दिनांक 08.09.1951 से कार्यालय को पुनः रक्षा लेखा नियंत्रक (पेंशन) का पदनाम दिया गया।
रक्षा लेखा नियंत्रक (फैक्ट्री) कलकत्ता तथा आयुध फैक्ट्री कलकत्ता में कार्यरत रक्षा असैनिकों के भी पेंशन का कार्य दिनांक 17.01.52 से रक्षा लेखा नियंत्रक(पेंशन) इलाहाबाद को स्थानान्तरित कर दिया गया। इसी प्रकार 1954 में वायु सेना के असैनिक कार्मिकों के पेंशन का कार्य भी स्थानान्तरित कर दिया गया।
सेना के सभी तीनों अंगो तथा रक्षा संगठनों मे सेवारत असैनिक कार्मिको के पेंशन का कार्य एक स्थान इलाहाबाद में केन्द्रित कर दिया गया। इसका कारण पेंशन स्वीकृति तथा लेखा परीक्षा के नियमों एवं प्रक़्रियाओ में एक रूपता लाना था।
नौ सेना एवं वायु सेना के कार्मिकों के पेंशन हकदारी के निपटान में शीघ्रता लाने हेतु पेंशन स्वीकृति का कार्य दिनांक 1.11.1985 से रक्षा लेखा नियंत्रक. (नव सेना) मुम्बई तथा रक्षा लेखा नियंत्रक (वायु सेना) नई दिल्ली को स्थानान्तरित कर दिया गया।
संगठनात्मक परिवर्तन के फलस्वरूप इस कार्यालय की पदोन्ऩति दिनांक 19.12.1988 से रक्षा लेखा मुख्य नियंत्रक (पेंशन) पुनः परिकल्पना कर दिनांक 24.09.1999 से इसे रक्षक लेखा प्रधान नियंत्रक (पेंशन) इलाहाबाद के रूप में जाना गया।
अगला विषय : संगठनात्मक ढांचा
| साइट मैप | सम्पर्क करें | ©2017 PCDA(P)